अमन का पैगाम देते अब्दुल लतीफ़

    0
    332

    अमन और शांति के पैगाम के परचम के साथ
    देश में सुकून की कोशिशों में जुटे समाजसेवक अब्दुल लतीफ़ 

     

    ”अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान”

    राजस्थान- आल इण्डिया पीस मिशन के पिंक सिटी जयपुर निवासी प्रदेश अध्यक्ष ,,समाजसेवक अब्दुल लतीफ आर को ,,हिंसक घटनाओं ,अफवाह बाज़ों के खिलाफ अमन की जंग को लेकर ,,संघर्षरत है ,,अब्दुल लतीफ राजस्थान सहित देश भर में दलित ,पिछड़े ,लोगों को एक जुट कर देश की यह असम्भव जंग जीतने की कोशिश कर रहे है। वोह कहते है देश में हिन्दू ,मुस्लिम,सिक्ख, ईसाई दलित,बोद्ध धर्म हो सकते है ,लेकिन देश में सिर्फ दो ही वर्ग है,एक पिछड़ा और दलित वर्ग और दूसरे मत्वाकांक्षी ,,सियासी फायदा उठाने वाले सियासी वर्ग जो उद्योगपति ,पूंजीपति जैसे लोग। यह लोग दलितों ,पिछडो को अपना वर्चस्व बनाये रखने ,देश की सियासी कुर्सी पर क़ाबिज़ होने के लिए धर्म के नाम पर हिंसा भड़काते है ,,नफरत फैलाते है ,लेकिन सारे जहाँ से अच्छा यह हिंदुस्तान हमारा ,,,ऐसे लोगो के खिलाफ,,सिर्फ खिलाफ है ,,बस इस व्यवस्था के खिलाफ लोगो को जागरूक करने की ज़रूरत है ,,, अब्दुल लतीफ़ आर को ,नफरत के खिलाफ ,मोहब्बत की इस जंग में ,बिना हथियार ,बिना तलवार ,सिर्फ अहिंसा के हथियार के साथ अपने साथियों के साथ मैदान में है ,,,खुदा से दुआ है ,,भारत में अमन सुकून के परचम लहराने की यह जंग वोह बहुत जल्द जीतें ,नफरतबाज़ मुर्दाबाद हों ,मोहब्बतबाज़ ज़िंदाबाद हो ,जी हाँ दोस्तों ,,पतले ,दुबले ,छोटे से क़द की इस शख्सियत में एक बहुत बेहतरीन इंसान ,,बहुत मज़बूत संघर्ष ,,देश के लिए राष्ट्रीयता ,इस्लाम का पैगाम ,,खिदमत ऐ ख़ल्क़ ,की कोशिशें छुपी है ,,कहावत खुदी को कर बुलंद इतना ,के खुदा बंदे से पूंछे बता तेरी रज़ा किया है ,कमोबेश अमन सुकून के लिए लड़ रहे इस फौजी पर पूरी तरह लागू होता है ,अब्दुल लतीफ़ आर को कहते है ,,में खुद गरीबी से ऊपर उठकर आया हूँ ,इसलिए मेरा मुक़ाम खुदा ने कुछ भी बनाया हो ,लेकिन में हमेशा गरीबी और गरीबों के दर्द को याद रखता हूँ ,इसीलिए उनकी खिदमत का जज़्बा मेरे दिल में बना रहता है ,एक छोटे ,,मध्यम वर्ग परिवार में वर्ष 1946 में जन्मे ,भाई अब्दुल लतीफ़ ,,ने संघर्ष किया ,,खुद को स्थापित किया ,माशाअल्लाह आज इनके पास खुदा का दिया हुआ सब कुछ है ,लेकिन एक सुकून ,,एक खिदमत ऐ ख़ल्क़ के जज़्बे ने ,इन्हे आज भी ख़ामोशी से बैठने नहीं दिया ,रोज़ दलितों ,पिछडो ,,गरीबों के साथ बैठके ,रोज़गारोन्मुखी योजनाओं में उन्हें शामिल कर फायदे पहुंचाना ,शिक्षा के लिए जागरूक करना ,दहेज ,,पारिवारिक विवाद के खिलाफ एक जुट कर ,उन्हें नफरत के खिलाफ मोहब्बत की जंग में ,,अहिंसात्मक एक जुट होकर शामिल रहने का आह्वान करना उनकी रोज़ की कोशिशें ,है ,,अब्दुल लतीफ ने परिवार के मुखिया के नाम से ,,रज़ाक एंड कम्पनी की शुरआत की ,व्यवसाय किया ,बाद में रज़ाक एंड कम्पनी के प्रोडक्ट इतने कामयाब ,मशहूर हुए के यह कम्पनी अब ,,आर ,को, निक नेम से अपनी पहचान बना चुकी है सिंडिकेम्प में होटल आर को पैलेस ,,आज माशाअल्लाह ,लोगो के घर जैसी सुविधा से ठहरने ,पारिवारिक शादी ब्याह करने के लिए एक सस्ता ,सुलभ स्थान है ,,क़रीब डेढ़ सो लक्ज़री आधुनिक सुविधाओं वाले इस होटल में किफायती दर पर हर सेवा उपलब्ध है ,,,अब्दुल लतीफ आर को का पूरा परिवार ,माशा अल्लाह पांच बेटे ,बेटियां ,पोते ,,पड़पोते ,,इनके व्यवसाय को इनके नेतृत्व में आगे बढ़ा रहे है ,होटल आर को पैलेस के अलावा एक होटल और इनकी है जबकि कूलर ,सभी तरह की बिजली की मोटरें ,,मोटर पार्ट्स ,,इलेक्ट्रिक सामान ,,आर को इंजिनयरिंग ,,का इनका अलग व्यवसाय है ,,शैक्षणिक क्षेत्र में इनके द्वारा दो आई टी आई संस्थान है जो पिछले कई सालों से प्रति वर्ष 250 छात्र छात्राओं को शिक्षा दे रहे है ,वोह कहते है ,,उन्हें आत्मिक सुख मिलता है जब ,, उनके शिक्षण संस्थान में पढ़े हुए सेकड़ो छात्र छात्राये कई कंपनियों में रोज़गार से लगे हुए नज़र आते है ,अब्दुल लतीफ़ आर को ,चाहते है कोई गरीब बच्चा ,,कोचिंग के अभाव में प्रतिभावान होने पर भी ,,प्रशासनिक सेवाओं सहित दूसरी सेवाओं में पास होने से वंचित न रह जाये ,इसीलिए कई सालों से लगातार मोती डूंगरी जयपुर मुसाफिर खाने में सहयोगियों के साथ प्रशिक्षित विशेषज्ञ लेचरर्स से प्रतिभावान छात्र छात्राओं को ,प्रशासनिक सेवाओं सहित अन्य नौकरियों के लिए कोचिंग करवाते है ,,,अब्दुल लतीफ आर को ,,शादी ब्याह में दहेज़ ,फ़िज़ूल खर्ची के खिलाफ अभियान के तहत मंसूरी समाज का समहुहिक विवाह सम्मेलन अपनी टीम के साथ सफलता पूर्वक करवाते है मात्र 11 रूपये के शुल्क पर दूल्हा ,दुल्हन से शुल्क लेकर दोनों पक्षों के पचास पचास महमानो को खाना भी खिलाया जाता ,है ,,जबकि कोई घरेलु आवश्यकता के सामान उपहार स्वरूप लेना देना चाहे तो उसकी अतिरिक्त व्यवस्था होती है ,एक साल में तीन सम्मेलन में अभी तक तीन हज़ार जोड़ों के लगभग निकाह करवाया जा चूका है ,होटल आर को में सम्मेलन सहित समझाइश से पारिवारिक विवादों को निस्तारित करने का पृथक कार्यालय है जहाँ ,,रोज़मर्रा छोटे बढे आपसी विवाद ,,समझाइश कर निस्तारित किये जाते है ,,कई घर बिगड़ने से बचाये जाते है ,,अब्दुल लतीफ आर को ,,आल इण्डिया पीस मिशन के राजस्थान प्रदेश के अध्यक्ष है ,,मुझे ख़ुशी है के में उनके साथ इस कार्य में प्रदेश संयोजक हूँ ,,आर को साहिब ,,कांग्रेस सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव है जबकि घर घर शिक्षा जागरूकता अभियान के तहत ,,सम्पूर्ण साक्षरता अभियान के तहत ,मदरसा शिक्षा को यह बढ़ावा देते रहे ,है ,आर को साहिब ,,राजस्थान बुनकर सहकारी संघ के चेयरमेन रहे है ,वोह राजस्थान सरकार मदरसा बोर्ड के प्रदेश सदस्य ,,भारत सरकार के उपक्रम पेट्रोफिल बड़ोदा के निदेशक भी रहे है ,,आर को साहिब एक कुशल वक्ता ,चिंतक ,विचारक ,समाजसेवक है ,,ऐसे रुतबे से जुडी कारगुज़ारियों वाले शख्स से जब आप मिलोगे तो यक़ीनन एक सादगी का आपको अहसास होगा ,,एक पेढ जो मीठे फलों से अटा पढ़ा है ,वोह झुका हुआ होता है ,बस यही इस शख्सियत की पहचान है ,,विनम्रता ,सादगी ,प्यार ,,मोहब्बत ,,लोगो की मदद का बेहिसाब जज़्बा ,,हिंसा के खिलाफ अहिंसा की जंग में कठोरता ही इनकी पहचान है ,,,इनसे मिलकर कोई अचानक इनकी इस महान शख्सियत का अंदाज़ा नहीं लगा सकता के एक शख्स जो ,सीधा ,साधा ,,,सादे लिबास ,सादे अंदाज़ में उनके सामने विम्रता से तहज़ीब से बातें कर रहा है उसकी शख्सियत माशाअल्लाह इतनी महान है के खुद ब खुद उन्हें सेल्यूट करने को दिल करता है।
    ”अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान”

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here