गाँधीग्राम में बेटी बेचने का गिरोह सक्रिय
                      पुलिस की नजर में अपराधियों का न आना सवाल खड़े करता है
     गहन जांच से हो सकता है बड़ा खुलासा
पन्ना- गांधीग्राम में रहने वाले बहेलिया समुदाय के बीच से एक खबर आ रही है जो सभ्य समाज के लिये झझकोर देने वाली है। पन्ना के गांधी ग्राम में आज भी बेटियों को बेचने खरीदने का सुनियोजित अपराध जारी है इसके बाद भी कानून की नजर में अपराधियों का न आना कई सवाल खड़े करता है। जिला मुख्यालय से सटे हुए जनकपुर ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले गाँधीग्राम में बहेलिया समाज के कई परिवार रह रहे हैं जिसमे से एक विजय सिंह बहेलिया ने अपनी बेटी को बचाने के लिये पुलिस अधीक्षक से लगाई गुहार। विजय सिंह ने पुलिस अधीक्षक के नाम दिये ज्ञापन में उल्लेख किया है कि कुछ साल पहले अपनी बड़ी बेटी सुरजनी बाई की शादी चांस लाल के पुत्र दुर्जन के साथ की थी। कुछ समय के बाद चांस लाल और दुर्जन ने मिलकर मेरी बेटी को गयारा बाबू पारधी कटनी निवासी को एक लाख रूपये में बेच दिया विरोध करने पर समाज की पंचायत बुलाई गई तथा मुझे रिपोर्ट नहीं करने के लिये मना किया गया तथा डरा धमकाकर चुप करा दिया गया। सामाजिक दबाव के चलते मैं चुप रहा। पिछले एक साल से चांस लाल अपने छोटे बेटे सब्बल की शादी मेरी छोटी पुत्री मुसाबरी देवी के साथ करने के लिये लगातार दबाव बना रहा है मैं अपनी बेटी की शादी उस परिवार में नहीं करना चाहता तथा मेरी बेटी भी वहां शादी नहीं करना चाहती क्योंकि यह लोग कई लोगों की लड़कियों को शादी का झासा देकर बेच चुके हैं। इसके बाद भी चांस लाल अपने बेटे की शादी मेरी बेटी से जबरन शादी करना चाहता है। दिनांक 24.6.2018 को लगभग शाम 7 बजे चंास लाल, दुर्जन, सब्बल, कारिफ, तथा माही इत्यादि लोग घर आये और शादी करने की बात करने लगे मैने मना किया तो उक्त लोगों ने मेरे बाल खींचकर घर से बाहर निकाला और मेरे साथ मारपीट करते हुये कहा कि सात दिन में अपनी बेटी की शादी मेरे बेटे से कर दो अन्यथा तुमको जान से मारकर तेरी बेटी को उठा ले जाउंगा। इसके बाद मैने 100 नंबर डायल कर पुलिस बुलाई पुलिस मुझे थाना लेकर आई और असंज्ञेय अपराध दर्ज किया तथा आरोपियों को कुछ नहीं कहा। ज्ञात हो कि चांस लाल और उसके बेटे पूरे पारधी समाज में अपना दबदबा बनाये हैं जिस कारण से इनके खिलाफ कोई नहीं बोलता।  घटना के सम्बन्ध में पुलिस से जब जानना चाहा तो एडिशनल एसपी ने बताया कि मुझे कोई जानकारी नहीं है क्योंकि में मीटिंग में था l इसके बाद किसी भी पुलिस अधिकारी ने फोन नहीं उठाया l

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here