भोपाल – {sarokaar news} महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर आज प्रखर समाजवादी नेता रघु ठाकुर ने देश में पूर्ण शराब बंदी की मांग करते हुये एक दिन का उपवास रखा। जहांगीराबाद में उपवास आरंभ करते हुए समाजवादी चिंतक श्री रघु ठाकुर ने कहा कि, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी संपूर्ण शराबबंदी के पक्षधर थे। उन्होंने कहा था, कि अगर 1 दिन के लिए मुझे तानाशाह के अधिकार याने सर्वाधिकार मुझे मिल जाए तो मैं संपूर्ण शराबबंदी कर दूंगा। और शराब की दुकानों को बगैर किसी मुआवजे की बंद करा दूंगा। बापू ने यह भी कहा था कि शराब से होने वाली आय अनैतिक आय और राज्य का काम अनैतिक आय कमाना नहीं है।

आज सरकारे कभी आमदनी का रोना रोती हैं और कभी अवैध शराब का भय के दिखाती है। जबकि वास्तविकता यह है कि शराब की आय से अनेकों राजनीतिक दलों और नेताओं के खर्चे चल रहे हैं, इसलिए वे शराबबंदी नहीं कर रहे। श्री ठाकुर ने मुरैना जिले के मानपुर छैरा गांव में जहरीली शराब से 25 से अधिक मौतों का उल्लेख करते हुए कहा, कि यह माफिया तंत्र के प्रभुत्व का प्रभाव है। मध्य प्रदेश सरकार जो तर्क दे रही है कि मध्यप्रदेश में वैध शराब की दुकानें कम होने की वजह से अवैध शराब बिकती है स्वीकार्य नहीं है।

अवैध शराब की बिक्री कानून व्यवस्था की कमी है। श्रीमती विजया पाठक ने कहा कि, शराब का सबसे बड़ा असर महिलाओं पर पड़ता है। अतः महिलाओं को शराबबंदी के पक्ष में आगे आना होगा। श्री बिंदेश्वरी पटेल ने कहा कि शराबबंदी नहीं हुई तो समाज में विकृतियां फैलेंगी इसके लिए जनता को भी आगे आना होगा। वरिष्ठ समाजवादी और कर्मचारी नेता श्रीप्रकाश गवांडे ने आह्वान किया कि सभी को गांधी जी के सपनों को पूरा करने शराबबंदी आंदोलन का हिस्सेदार बनना होगा। समाजसेवी श्री लालू भाई जान ने कहा कि सभी धर्मों में शराब का निषेध है इसलिये सभी को इसके खिलाफ खड़ा होना होगा।