नगर में पानी की समस्या को लेकर कांग्रेस का दिखावटी प्रदर्शन

0
107

कांग्रेस अध्यक्ष शारदा पाठक का पानी के बहाने चुनावी तैयारी की कवायद 

नगर में पेयजल संकट को लेकर मटका फोड़ तथा नगरपालिका की अनियमितताओं को लेकर धरना प्रदर्शन

पन्ना – {sarokaar news} – भीषण गर्मी और उसपर पानी की विकराल समस्या ने नगरवासियों का जीना दूभर कर दिया है। नगर में पानी की समस्या नई नहीं है साल दर साल यह समस्या बढ़ती जा रही है, पानी की समस्या सर पर आ जाती है तो इससे निपटने के लिये प्रशासन गाल बजाकर रश्म अदायगी करने में देर नहीं करता। नगर में दर्जनों ऐसे जलस्रोत हैं जिनका उचित रखरखाव किया जाए तो नगरवासियों को पीने तथा दैनिक उपयोग का पानी आसानी से उपलब्ध हो सकता है लेकिन इच्छाशक्ति के अभाव के चलते ऐसा नहीं हो पाता है। पन्ना नगर में आधा दर्जन से अधिक तालाब हैं किन्तु उन तालाबों में पानी एकत्र नहीं हो पाता है क्योंकि तालाबों पर अतिक्रमणकारियों का कब्ज़ा हो गया है। तालाब दिन ब दिन छोटे हो रहे हैं लेकिन इस पर प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।

गौरतलब है कि गर्मी अपने पूरे शबाब पर है और एक बार फिर नगरवासी पानी को लेकर परेशान ही इसलिये विपक्षी पार्टी कांग्रेस जिलाध्यक्ष शारदा पाठक के नेतृत्व में नगर पालिका के सामने मटका फोड़ कार्यक्रम कर आमजन को सन्देश देने की नाकाम कोशिश कर रहीं है कि वह पानी की समस्या से चिंतित हैं । दरअसल शारदा पाठक पन्ना नगर पालिका की पूर्व अध्यक्ष रह चुकीं है और वर्तमान में कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष हैं, वे पन्ना नगर में हर साल उत्पन्न होने वाले जलसंकट से खूब वाकिफ हैं। उनका यह प्रदर्शन पानी की समस्या से कहीं अधिक आने वाले चुनावों के लिए जमीन तैयार करने का प्रयास अधिक जान पड़ता है।

शहर के तालाबों को अतिक्रमण से बचाने और मुक्त करवाने के लिये शहर के जागरूक नागरिक अधिवक्ता राजेश दीक्षित ने वर्ष 2017 में लोकोपयोगी अदालत में प्रकरण प्रस्तुत किया और 31 जनवरी 2019 में अदालत द्वारा डेढ़ माह में तालाबों का सीमांकन करने का आदेश पारित किया था। लेकिन प्रशासन ने अदालती आदेश को कोई तवज्जो नहीं दी इसके बाद दिसंबर 2019 में अदालत में इजराय प्रस्तुत कर अवगत कराया गया की अनावेदकों द्वारा अदालत के आदेश का पालन नहीं किया जा रहा है। यह मामला सुर्ख़ियों में आने के बाद अब प्रशासन कछुआ गति से नगर के तालाबों का सीमांकन कर रहा है किन्तु अभी की किसी भी अतिक्रमणकारी का अतिक्रमण नहीं हटाया गया है। अगर कांग्रेस बरसात के पूर्व ईमानदारी से नगर के तालाबों का सीमांकन करवा दे तो काम से काम पानी के लिये प्रदर्शन नहीं करना पड़ेगा।

जिला कांग्रेस के इस प्रदर्शन में विधायक शिव दयाल बागरी सहित जिले के कई नेता शामिल हुये। जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती शारदा पाठक ने संबोधित करते हुए कहा कि जनता की लड़ाई लड़ने के लिए कांग्रेस पार्टी हमेशा तैयार हैं उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि गरीब जनता को यदि परेशान करना बंद नहीं किया गया तो हम अधिकारी कर्मचारियों को चैन से बैठने नहीं देंगे उन्होंने कहा कि जो मांगों को लेकर कांग्रेस पार्टी ज्ञापन दे रही है उसको यदि शीघ्र निराकरण नहीं किया गया तो इसका अंजाम सही नहीं होगा जनता के हक में उनको सुविधाएं दिलाने को लेकर हमें सड़क पर लड़ाई लड़नी होगी तो वह हम लड़ेंगे।

विधायक शिवदयाल बागरी ने कहा कि पूरे जिले की नगर पालिका और नगर परिषदों में भारी भ्रष्टाचार मचा हुआ है यदि इन सब की सही तरीके से जांच करा ली जाए तो अधिकारी जेल की शिखचों के अंदर होंगे। विधायक श्री बागरी ने कहा कि जनता की सेवा के लिए नगर पालिका, नगर परिषदो में इन को नौकरी दी गई है लेकिन यह भाजपा के लोगों के कठपुतली बनकर काम कर रहे हैं। विधायक ने कहा कि भाजपा की करतूतों को आम जनता समझ चुकी है हमारी मध्य प्रदेश में सरकार भी बनेगी और नगर पालिका और नगर परिषदों में हमारी पार्टी की बोर्ड जनता बनाएंगी। धरना प्रदर्शन के बाद कांग्रेस अध्यक्ष शारदा पाठक महिला नेत्री आस्था तिवारी, सुप्रिया बुंदेला, रेनू शर्मा, पूनम मिश्रा आदि महिलाओं ने पेयजल संकट को लेकर अपने अपने सिरों पर मटके रखकर प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की और नगरपालिका के सामने विरोधस्वरूप मटके फोड़े। पन्ना कलेक्टर के नाम 12 सूत्रीय एक ज्ञापन भी नगरपालिका अधिकारी के.के. तिवारी को ज्ञापन सौपते हुए उल्लिखित बिंदुओं के निराकरण की मांग की सोंपे गए ज्ञापन को श्री तिवारी ने कलेक्टर महोदय के पास भेजे जाने की बात कही।