एनसीएचआरओ ने मज़दूर के हित में श्रम आयुक्त को पत्र लिखकर की मुआवजे की मांग

0
56

एनसीएचआरओ ने गुड़गांव में मजदूर के साथ हुई घटना के मामले में मुख्य श्रम आयुक्त को लिखा पत्र

{sarokaar news} – मज़दूरों के हितों और उनके अधिकारों की रक्षा के लिए मानवाधिकार संगठन नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइजेशन (NCHRO) ने गुड़गांव में एक मज़दूर के साथ घटी दुर्घटना पर मुख्य श्रम आयुक्त को पत्र लिखकर मुआवजे की मांग की है। (NCHRO) दिल्ली चैप्टर सचिव, मोहम्मद शोएब ने जानकारी देते हुये बताया कि —
दिनांक 08 सितंबर, 2022 को जब गुड़गांव के आईएमटी मानेसर इलाके में एक निजी कंपनी में पावर प्रेस मशीन पर काम करने के दौरान एक 26 वर्षीय व्यक्ति ने कथित तौर पर अपने हाथों की आठ उंगलियां खो दी थीं।
पीड़ित महेश ने बाद में पुलिस को बताया कि उसे मशीन के संचालन में कोई विशेषज्ञता नहीं है, जिसका उपयोग आमतौर पर मोटर वाहन के पुर्जे बनाने में किया जाता है, और उसने अपने नियोक्ता से कहा था कि वह केवल एक सहायक हैं और मशीन को संचालित करना नहीं जानते। लेकिन उनके नियोक्ता ने उन्हें नौकरी से निकालने की धमकी दी और काम करने के लिए मजबूर किया। घटना में महेश के दोनों हाथ की चार उंगलियां कुचल गईं।
यह केवल नियोक्ता की ओर से लापरवाही का मामला नहीं है, जहां एक “दुर्घटना” के कारण नुकसान हुआ। पीड़िता को नियोक्ता द्वारा जबरदस्ती करने के कारण यह परिणाम भुगतना पड़ा।
इस घटना के खिलाफ मानवाधिकार संगठन नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइजेशन (NCHRO) ने दिल्ली के मुख्य श्रम आयुक्त को पत्र लिखा है। पत्र मोहम्मद शोएब, संगठन के दिल्ली चैप्टर के सचिव, द्वारा भेजा गया है।
संगठन ने अपने पत्र में निष्पक्ष सुनवाई की मांग की है और पीड़ित को आर्थिक मुआवजा देने पर जोर दिया है।