टीआई अरविन्द कुजूर के कुशल नेतृत्व में आरोपी पुलिस के शिकंजे में फंसे
फर्जी आयकर अधिकारी बनकर ठगने वाले आरोपी पन्ना पुलिस के हत्थे चढ़े
छग के अधिकारियों को भी बना चुके निशाना


पन्ना- {sarokaar news} फर्जी आयकर अधिकारी बनकर ठगी करने वाले गिरोह को पन्ना पुलिस ने किया बेनकाब प्राप्त जानकारी के अनुसार गिरोह पन्ना जिला परिवहन अधिकारी सुनील शुक्ला ने दिनांक 21/12/18 को कोतवाली पन्ना में लिखि आवेदन पत्र दिया गया था जिसमे उल्लेख था कि मेरे मोबाईल नम्बर पर किसी अज्ञात ब्यक्ति द्वारा जिसका मोबाईल नम्बर 6262665951 है फोन पर स्वंय को आयकर अधिकारी भोपाल का बतलाकर मेरे विरूद्द आयकर विभाग के नोटिस भेजना बताया गया और उसकी साफ्ट कापी मेरे मोबाईल मे भेजी गयी है जो फर्जी लग रही है।

सूचना पर थाना कोतवाली पन्ना मे दिनांक 21/12/2018 को अपराध क्रमांक 798/18 धारा 420.467.468.471.34 ता0हि0 कायम कर विवेचना मे लिया गया । पुलिस अधीक्षक पन्ना के निर्देशन मे अति0 पुलिस अधीक्षक पन्ना के मार्गदर्शन मे विवेचना प्रारम्भ कर साईबर सेल और मुखबिर की मदद से आरोपियो को मैहर जिला सतना से आरोपी अश्वनी सिहं पिता श्री शोवरन सिंह उम्र 34 साल निवासी हाउसिग बोर्ड कालोनी मैहर एवं विभूति सोनी पिता श्री राजेन्द्र प्रसाद सोनी उम्र 32 साल निवासी रंगलाल चौक मैहर को गिरफ्तार कर पन्ना कोतवाली पन्ना लाया गया तथा कडाई से पूंछतांछ करने पर जुर्म स्वीकार कर अश्वनी सिहं ने बताया कि वह एमबीए पूना से किया है उसके बाद नौकरी न लगने के कारण सात वर्ष तक जबलपुर मे इन्टरनेट कैफे चलाता था जिस कारण वह कम्प्यूटर के कार्य दक्ष है , इन्टरनेट कैफे के धन्धे में उसे नुकसान हुआ और उस पर दो तीन लाख का कर्ज हो गया था, तभी उसके मन मे फर्जीवाडा करके पैसा कमाने का लालच आया इस कारण उसने अज्ञात नाम से कटनी से ज्यादा पैसे देकर सिम खरीदी थी, तथा कटनी से ही आयुक्त आयकर विभाग के नाम की सील ज्यादा पैसे देकर बनवायी थी, और साथ ही कटनी के एक रिक्शाचालक को प्रधानमंत्री आवाश योजना का लाभ दिलाने का लालच देकर उसके नाम खाता खुलवाकर उसका ए0टी0एम0कार्ड यह कहकर अपने पास रख लिया था, कि एटीएम कार्ड जमा करने पर ही तुम्हारे खाते मे प्रधान मंत्री आवाश योजना का पैसा आयेगा इसी अज्ञात नाम के सिम से आरोपियो द्वारा इन्टरनेट से नाम पता अधिकारियो का मोबाईल नम्बर निकालकर फोन किया करते थे और स्वंय को आयकर अधिकारी बतलाकर बात किया करते थे फिर फर्जी नोटिस बनाकर उसके पते पर भेज दिया करते थे भेजने के कुछ दिन बाद उसे वापस फोनकर मामले को रफा दफा करने के लिये पैसो का लेनदेन की बात करते थे राजी होने पर रिक्शे वाले के खाता नंबर देकर पैसा खाते मे डलवाते थे। तथा एटीएम की मदद से पैसा निकालकर हिस्सा बांट कर लेते थे । आरोपियों नमे यह भी बताया कि हमने पूर्व मे आयुक्त आदिमजाति विभाग के कोरबा, कवर्धा, कोरिया ,रायपुर (छ.ग.)को नोटिस भेजा था और फोन पर बात करके सभी से आठ – नौ लाख रूपये कमाये है, साथ ही आरटीओ अधिकारी जबलपुर को भी नोटिस भेजा था और उससे से भी पैसे प्राप्त हुय़े थे । इसके अलावा आरोपियो द्वारा दमोह सागर मंदसौर विदिशा पन्ना के आरटीओ अधिकारियो फोन लगाया एवं फर्जी नोटिस भेजा था।
उक्त आरोपियो की गिरफ्तारी मे नगर निरीक्षक अरविन्द कुजूर, परि0डी0एस0पी0 उमेश प्रजापति उपनिरी0 सुशील शुक्ला ,एम0डी0शाहिद, अजंली उदेनिया,सुवेदार नेहा चौहान, प्रधान आर0 243 रामकृष्ण आर0 सर्वेन्द्र अहिरवार , बीरेन्द्र अहिरवार, प्रदीप पाण्डेय, नीरज रैकवार रामपाल बागरी,साईबर सेल, पन्ना का विशेष योगदान रहा। अल्प समय
अंतर्राज्यीय ठगों को पकड़ने पर पुलिस अधीक्षक द्वारा पूरी टीम को पुरूष्कृत करने की उद्घोषणा की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here